मोम की गुड़िया

आज Mother's Day है, सब तेरी तारीफों के पुल बांधे, हो भी क्यों ना, तू है ही तारीफ के काबिल। पर मां, मुझे तुझसे है शिकायत मुकम्मल। कुछ सवाल है जो पूछना चाहती हूं, वो बात और है, कि उनका जवाब ' तेरे ' रूप में पाती हूं। क्यों तूने मेरे हर छोटे काम को … Continue reading मोम की गुड़िया